2 महीने का हुआ खुशियों का बैंक, मेरा गांव मेरा देश एक सहारा के साथ जुड़े लगभग 500 लोग

मेरा गांव मेरा देश एक सहारा संस्था के द्वारा चलाए गए खुशियों का बैंक 2 महीने का हो चुका है तथा मेरा गांव मेरा देश एक सहारा संस्था से अभी तक लगभग 500 लोग जुड़ चुके हैं इसके लिए संस्था के द्वारा सभी सहयोगियों का हार्दिक आभार प्रकट किया गया इन 2 महीनों में संस्था के साथ लगभग 500 सदस्य जुड़ गए हैं

इन सदस्यों के द्वारा संस्था को विभिन्न माध्यमों से सहयोग किया जा रहा है इसके लिए संस्था द्वारा कुटुंब ऐप के माध्यम से भी विभिन्न सुविधाएं जैसे संस्था का पहचान पत्र प्रशस्ति पत्र तथा दान देने की सुविधा इत्यादि उपलब्ध कराई जा रही है

संस्था में हिमाचल के साथ-साथ विभिन्न राज्यों से भी सदस्य जुड़ रहे हैं तथा लोगों के द्वारा भी संस्था के कार्यों की सराहना की जा रही है संस्था के द्वारा सबसे पहले खुशियों के बैंक में समाज के लोगों से अपील की गई कि उनके घर पर जो भी फालतू सामान है जैसे कपड़े, बर्तन, खिलौने किताबे व अन्य सामान जो किसी जरूरतमंद के काम आ सके वह खुशियों के बैंक में जमा करवाएं जिसमें लोगों के द्वारा भरपूर सहयोग दिया जा रहा है संस्था की यह मुहिम रंग लाई तथा कई लोगों के चेहरे पर खुशियां ला सकी

इस संस्था के द्वारा क्षेत्र के बच्चों के लिए निशुल्क शिक्षा अभियान चलाया गया जिसमें लगभग 40 बच्चे लाभ उठा रहे हैं संस्था के द्वारा इन बच्चों को सामान्य ज्ञान, साहित्य, कला व आध्यात्म ज्ञान दिया जा रहा है

संस्था के द्वारा लोगों को सरकार के द्वारा मिलने वाली विभिन्न योजनाओं के बारे में भी बताया जा रहा है तथा यह सुविधाएं लेने में उनकी मदद की जा रही है वहीं संस्था के द्वारा क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों में सहभागिता भी की जा रही है

संस्था के द्वारा प्रति शनिवार व रविवार को शाम 4:00 बजे से 6:00 बजे तक इन बच्चों के साथ विभिन्न गतिविधियां की जाती हैं तथा मुख्य अवसरों जैसे पर्यावरण दिवस, मातृ दिवस, पितृ दिवस, योग दिवस पर विभिन्न प्रतियोगिता करवाई गई तथा बच्चों को उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित भी किया गया

बाल मजदूरी निषेध दिवस पर संस्था द्वारा चाइल्ड लाइन के द्वारा बातापुल स्लम एरिया में आयोजित कार्यक्रम में सहभागिता की गई संस्था के द्वारा चाइल्ड लाइन को आश्वासन दिया गया कि बच्चों के लिए संस्था हमेशा सहयोग करती रहेग

वही 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर संस्था की सहभागिता के लिए आयुष विभाग द्वारा संस्था को सम्मानित भी किया गया

खुशियों का बैंक के 2 महीने पूर्ण होने पर संस्था द्वारा स्लम एरिया में जाकर लोगों से बातचीत की गई तथा उनको आ रही विभिन्न समस्याओं को सुना तथा उन्हे खुशियों के बैंक में जमा हुए सामान को वितरित भी किया गया तथा उन्हें आश्वासन दिया गया कि संस्था के द्वारा उनके चेहरे पर खुशी लाने के लिए संस्था हमेशा सहयोग करती रहेगी।

वही संस्था के द्वारा अपील की गई है कि संस्था के साथ जुड़े तथा निशुल्क सदस्यता प्राप्त कर समाज सेवा में सहभागी बन कर खुशियां प्राप्त करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मीडिया