74वें गंणतंत्र दिवस पर पांवटा में अन्य टुकड़ियों के साथ साथ भूतपूर्व सैनिकों ने किया पथ संचलन

गंणतंत्र दिवस के मोके पर पांवटा साहिब में अमर जवान समारक स्थल पर भूतपूर्व सैनिक संगठन ने स्थानीय समाजसेवकों के साथ मिलकर आजादी के अमृतकाल महोत्सव के 74वें गणतंत्र दिवस समारोह का शुभारंभ समारक स्थल पर ध्वजारोहण व राष्ट्रीयगान के साथ किया। तदोपरान्त एसडीएम गुरजीत सिंह चीमा ने पुष्पांजलि अर्पित की। सनंद रहे कि संगठन शासन प्रशासन के साथ मिलकर हमेशा देश के गोरव दिवस को ओर गोरवान्वित बनाने के लिये सदैव तत्पर रहता है।

74वें गणतन्त्र दिवस समारोह का मुख्य आकर्षण में भूतपूर्व सैनिक संगठन पांवटा साहिब – शिलाई क्षेत्र की टुकड़ी के साथ साथ स्थानीय विधालय के एनसीसी केडेट्स, एनएसएस छात्र और सिनियर सिटीजन आदि की टुकड़ीयां शामिल थी।

संगठन की इस टुकड़ी के अंतर्गत क्षेत्र के लगभग 25 भूतपूर्व सैनिकों ने भाग लिया। अभी तक इस तरह की परेड कर्तव्यपथ पर ही देखने को मिलती थी। लेकिन अब यहां पर भी लोगों में परेड को लेकर उत्सुकता देखने को मिली।

ज्ञात रहे कि सैनिकों का जीवन हमेशा से ही चुनौतीपूर्ण रहा है देश की संप्रभुता व सीमाओं की रक्षा के लिए सैनिकों ने देश के लिए हमेशा ही अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है और यही जज्बा इन पूर्व सेनिकों में भी देखने को मिलता है।

 

सनंद रहे कि भारतीय सेना की शौर्य गाधा को याद करते हुए एसडीएम गुरजीत सिंह चीमा ने नगरपालिका मैदान में सर्वप्रथम ध्वजारोहण किया और उसके बाद परेड की सलामी ली। उसके तुरंत बाद देश का गौरव वीर नारियों को सम्मानित किया गया। उपस्थित सभी लोगों ने इस गौरवमय क्षण पर खूब तालियां बजाई और शहीदों के बलिदान को याद किया।

भूतपूर्व सैनिक संगठन के पदाधिकारियों ने कहा कि ऐसे गौरवमय क्षण केवल हमारा ही गौरव नहीं अपितु पूरे क्षेत्र के सभी नागरिकों को गौरवान्वित करता है। भूतपूर्व सैनिक क्षेत्र के गौरव, सम्मान, सेवा और सहायता के लिए हमेशा ही स्थानीय शासन और प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े है।

संगठन ने कहा कि पथ संचलन में चलने वाले रियल हिरो व जाबांज तीनों सेनाओं के रणबांकुरो ने देश के विभिन्न ऑपरेशन व युद्धों के साथ-साथ भिन्न-भिन्न स्थानों और सीमाओं पर देश की रक्षा व सेवा की है। यह अपने आप में एक अद्भुत व गोरवान्वित करने वाला क्षण है।

मालुम हो कि 74वें गणतंत्र दिवस समारोह में परेड के अलावा अन्य गतिविधियों में गौरमयी देशभक्ति नाटक प्रस्तुती, समूह गान, पहाड़ी संस्कृति के अलावा अन्य राज्यों के संस्कृति की छलक देखने को मिली।

भूतपूर्व सैनिक संगठन ने याद दिलाया क्षेत्र के सैनिकों का देश की रक्षा और सेवा में अभूतपूर्व योगदान रहा है। हमारे क्षेत्र से सेना में जाने वाले जवान हर विकट परिस्थिति में देश के लिए बेहतर से बेहतर सेवायें दे रहे हैं। वे सब क्षेत्र, जिला, प्रदेश और देश का नाम रोशन कर रहे हैं। हमें उन पर फक्र है। ये हम सभी के लिए प्रेरणा का स्रौत व क्षण है।

संगठन के पदाधिकारियों ने जोर देकर कहा कि सभी देशवासियों को अपना गौरमयी इतिहास देखना व सीखना चाहिए। उक्त मौके पर क्षेत्र की सभी वीरांगनायें भी उपस्थित रही। प्रशासन द्वारा उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्तियों को सम्मानित किया गया।

इस मौके पर भूतपूर्व संगठन पांवटा-शिलाई की तरफ से कोर कमेटी से संरक्षक एस पी खेड़ा, पूर्व अध्यक्ष विरेन्द्र चौहान, अध्यक्ष करनैल सिंह, उपाध्यक्ष नरेन्द्र सिंह ठुंडू व सवर्णजीत, सचिव संतराम, सह सचिव गुरदीप, कोषाध्यक्ष तरुण गुरुंग, मिडिया प्रभारी नरेश कुमार के अलावा संगठन के अन्य गणमान्य सदस्य मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मीडिया